अध्याय-8: पहनावे का सामाजिक इतिहास

 

1. सौ कुलोत का शाब्दिक अर्थ था

  • बिना घुटन्ने वाले
  • बिना रिबन वाले
  • बिना कसाकट वाले
  • इनमें कोई नहीं

उत्तर

बिना घुटन्ने वाले

2. ‘ फर की एक किस्म को कहा जाता है-

  • मखमल
  • तसर
  • एर्माइन
  • इनमें कोई नहीं

उत्तर

एर्माइन

3. किस व्यक्ति ने खादी का प्रयोग ब्रिटिश राज के खिलाफ प्रतीकात्मक लड़ाई के रूप में किया ?

  • लोकमान्य गंगाधर तिलक
  • वल्लभ भाई पटेल
  • महात्मा गाँधी
  • पंडित जवाहरलाल नेहरू

उत्तर

महात्मा गाँधी

4.भारत में स्वदेशी आंदोलन कब हुआ ?

5.लोगों की पहचान किससे होती है ?

  • भाषा से
  • संस्कृति से
  • पोषाक से
  • कोई नहीं

उत्तर

पोषाक से

6. सबसे पहले पश्चिम ढंग के कपड़ों को अपनाने वाले कौन – से भारतीय थे ?

  • पारसी
  • सिख
  • बंगाली
  • ईसाई

उत्तर

पारसी

7.परिधान से संबंधित सम्प्चुअरी कानून किस देश में लागू किया गया था ?

उत्तर

फ्रांस

8.सौ कुलौत्स कहाँ तक वस्त्र पहनते थे ?

उत्तर

घुटने तक

9. भारतीय पोशाक में क्या राष्ट्रीय और क्षेत्रीय अस्मिता का प्रतीक था ?

उत्तर

पगड़ी

10. 1931 में हुए गोलमेज सम्मेलन में गाँधीजी क्या पहन कर गये थे ?

उत्तर

छोटी धोती

11. सत्रहवीं शताब्दी में पूरे विश्व के सूती वस्त्रों का कितना भाग भारत में बनता था ?

उत्तर

एक चौथाई/su_spoiler]

12. पश्चिमी परिधान में उपयोग होने वाले ‘ कॉर्सेट ‘ और ‘ स्टेज ‘ स्वास्थ्य के लिए कैसी थी ?

कष्टदायक और हानिकारक

13. कुछ भारतीयों के लिए पश्चिमी कपड़े एक संकेत थे

उत्तर

प्रगति और आधुनिकता

14. सत्रहवीं सदी में पूरे विश्व के उत्पाद का निम्न में से कितना भाग भारत में बनता था?

उत्तर

एक-चौथाई

15. लार्ड कर्जन ने बंगाल को विभाजित करने का फैसला क्यों किया?

उत्तर

ब्रिटिश राज के खिलाफ बढ़ते विरोध को नियन्त्रित करने के लिए

16. निम्न में से कौन आई. सी. एस (ICS) के पहले भारतीय सदस्य बने?

उत्तर

सत्येन्द्रनाथ टैगोर

17. निम्न में से किसने सत्र न्यायधीश की, अदालत में जूते उतारने से इन्कार कर दिया?

उत्तर

मनोकजी कोवासजी एन्टी

18. महिलाओं के वस्त्रों में मूलभूत परिवर्तन निम्न में से किस कारणवश हुआ?

उत्तर

प्रथम विश्व युद्ध

Leave a Comment

Your email address will not be published.